Alone shayari : तेरे लौटने की आस अब छोड़ दी  है

 

तेरे लौटने की आस अब छोड़ दी  है

अपने जिंदगी की राह अब मोड़ दी है

तुझसे मिलने अब ख्वाहिश न बची

इसीलिए अब तन्हाइयों से नाता जोड़ ली है।

 

Tere lautane ki aas ab chhod di hai

apne jindagi ki raah ab mod di hai

tujhse milne ki ab khwahish na bachi

isliye ab tanhaiyon se nata jod li hai

Alone shayari

अपनों से लड़ने की ख्वाहिश न रही

किस्मत से कोई जोर आजमाइश न रही

अब दिल लगता नहीं कहीं भी

इसलिए जिंदगी से अब कोई ख्वाहिश न रही।

 

Apno se ladne ki khwahish na rahi

Kishmat se koi jor ajmaish na rahi

ab dil lagta nahi kahin bhi,

isliye jindagi se ab koi khwahish na rahi.

 

Read More :

Alone shayari,tanhai shayari in hindi | तन्हाई शायरी