Read beautiful Ilzaam shayari | पढ़िए चुनिंदा इलज़ाम शायरी हिंदी में

Ilzaam-shayari

 

बड़ा अजीब दौर ए जमाना चल रहा है यहां

पता ही नहीं चलता तारीफ की जा रही कि,

इलज़ाम लगाए जा रहे है।

 

Bada ajeeb daur e jamana chal raha hai yahan

Pata hi Nahi chalta tareef ki jaa rahi hai ki,

Ilzaam lagaye jaa rahe hai.

 

Best Ilzaam shayari

जमाना कहता रहा, हम सुनते रहे

इलज़ाम लगते रहे और हम इश्क़ करते रहे।

 

Jamana kahata raha, ham sunte rahe

Ilzaam lagate rahe aur ham ishq karte rahe.

 

इलज़ाम लगानेवालों ने लाख कोशिश की मगर 

सच्चाई को छुपाने की ख्वाहिश उनकी अधूरी ही रही।

 

Ilzaam laganevalon me laakh koshish ki magar

Sachchai ko chhupane ki khwahish unki adhoori hi rahi.

 

 

इस जमाने के ना जाने कितने इलज़ाम सहे हमने

पर कभी भी तेरे न होने का अहसास होने न दिया।

 

Is jamane ke na jaane kitne ilzaam sahe hamane,

Par Kabhi bhi there na hone Ka ahasas hone na Diya.

 

 

बड़ा आसान है किसी पर इलज़ाम लगा देना

पर भूल जाते है, इलज़ाम को साबित भी करना पड़ता है।

 

Bada aasaan hai Kisi par ilzaam laga dena

Par bhool jaate hai ki, ilzaam sabit bhi Karna padta hai.

 

हमने जरा सी खामोशी क्या अख्तियार कर ली,

सारा जमाना ही हम पर इल्ज़ाम लगाने पर उतर आया।

 

Hamane jara si khamoshi kya akhtiyar Kar li,

Sara jamana hi ham par ilzaam lagane par utar aaya.

 

अपने चेहरे को तो साफ करो जनाब,

सिर्फ आइने पर इल्ज़ाम लगाने से क्या होगा।

 

Apne chehare ko saaf Karo janab,

Sirf aaine par ilzaam lagane se kya Hoga.

 

 

बड़ा अजीब सा वाकया हो गया आज

खता की ही नहीं, पर इलज़ाम लग गया।

 

Bada ajeeb sa vakaya ho gaya aaj

Khata ki hi Nahi, par ilzaam lag gaya.

 

You can also Read

Dard bhari shayari | Painful shayari| दर्द से भरी हुई शायरी