Intezaar shayari in hindi: इंतजार शायरी

Intezaar-shayari-in-hindi

आज भी निगाहें उन्हीं राहों पर लगा रखी है

क्या पता कब आपका गुजरना यहां से हो जाए।

 

Aaj bhI nigahen unhi raahon par laga rakhi hai

Kya pata Kab Aapka gujrana yahan se ho Jaye.

Intezaar shayari in hindi

ऐसी भी क्या जल्दी थी, जो दो पल इंतजार ना कर सके

और हम खामखां उनकी राह देखा करते थे।

 

Aisi bhI kya jaldi thi, Jo do pal Ka intezaar na Kar sake

Aur ham khamkhan unki raah Dekha karte the.

 

वक्त गुजरता चला गया पर

दिलो में उम्मीद अब भी बाकी हैं

मौसम आते जाते रहे हर बार,

पर आपका इंतेज़ार अब भी बाकी है।

 

Wakt Gujarta Chala Gaya par,

Dilon me ummeed ab bhi Baki hai

Mausam aate jaate rahe har Baar,

Par Aapka intezaar ab bhi Baki hai.

 

 

नज़रों को चुराकर उन्हीं को देखते रहे

दिलो के दीवार पर उनकी तस्वीर में रंग भरते रहे

पर वो हमारे जज़्बात को समझ भी न सके

जिनका हम अरमानों से दीदार अब तक करते रहे

 

Najron ko churakar unhi ko dekhte rahen

Dilon Ke deewar par unki tasweer me rang bharte rahe

Par wo hamare jajbaat ko samajh bhi na sake

Jinka ham armanon se deedar ab tak karte rahe.

 

दूरियों से सिर्फ फासलें बढ़ जाते है

न चाहते हुए भी इंतजार की घड़ियां बढ़ जाते हैं

हो सके तो मिलकर इन दूरियों को मिटा दे

इससे इंतजार की घड़ियां कम हो जाते है।

 

Dooriyon se sirf faasalen badh jaate hai

Na chahate huye bhI intezaar ki ghadiyan badh Jate hai

Ho sake to Millar in dooriyon ko mita do

Isase intezaar ki ghadiya kam ho jaate hai.

 

 

जमाना गुजर गया दीदार कए आपका

पर निगाहें हैं कि बस आपको देहना चाहती है।

 

jamana gujar gaya deedar kye aapka

par nigahen hai ki bas  aapko dekhna chahati hai.

 

You can also Read

Best yaad shayari in Hindi | miss you shayari