Shayari on maut : यूं तो जिंदगी में रुसवाई और बेवफाई बहोत है मिली

shayari-on-maut

यूं तो जिंदगी में रुसवाई और बेवफाई बहोत है मिली

पर मौत भी बेवफा होगी ये हमें मालूम न था।

 

Yun to jindagi me rusvaai aur bewafai bahot hai Mili,

Par maut bhi bewafa Hoti ye hame maaloom na tha.

Shayari on maut

एक दिन सभी को मौत का चोला ओढ़ जाना है

सारे नाते रिश्ते यही पर तोड़ जाना है

जितना चाहो तसद्दुद कर लो जिंदगी के तामझाम की

एक दिन सभी को छोड़ रुखसत जमाने से कर जाना है।

 

Ek din sabhi ko maut Ka chola odha Jana hai

Share jaate rishte yahin par Tod Jana hai

Jitna chahe tasaddud Kar li jindagi ke tamjham ki

Ek din sabhi ko chhod rukhsat  jamane ko Kar Jana hai.

 

जिंदगी की तलाश में हम कुछ इस कदर भटके कि,

जिंदगी का सफर कब पूरा हो गया पता तक न चला।

 

Jindagi ki talash me ham kuchh is kadar bhatke ki,

Jindagi Ka Safar kab poora ho Gaya pata tak na Chala.

 

अजीब सा रुख अपना लेती है ये जिंदगी कभी कभी,

मौत भी तभी आ जाती जब जीने की हसरत जगाती है।

 

Ajeeb sa rukh apna leti hai ye jindagi Kabhi Kabhi

Maut bhi tabhi as jaati hai jab jeene ki hasrat jaagati hai.

 

जिंदगी कभी कभी इतने दर्द दे जाती है कि,

अहसास ए मौत का डर बाकी नहीं रहता।

 

Jindagi Kabhi Kabhi itne date de jaati hai ki,

Ahasas-e-maut Ka dar baaki Nahi rahta.

 

कभी कभी मौत से कोई शिकायत ही नहीं रहती क्योंकि,

यहां मौत के दर पर लाने वाले, अपने  ही हुआ करते है।

 

Kabhi Kabhi maut se koi shikayat hi Nahi rahati kyonki

Yahan maut ke dar tak laanevale Apne hi hua karte hai.

 

ऐ जमानेवालों ! इश्क़ जरा बचकर करना क्योंकि, 

कभी कभी इश्क़ करने वाले बेमौत मारा जाते है।

 

Yei jamanevalon ! Ishq se jara Bach Kar karana kyonki,

Kabhi Kabhi ishq me karnevale bemaut maare jaate hai.

You can also read

Ilzaam shayari in Hindi | पढ़िए इलज़ाम शायरी हिंदी में